Thursday, September 22, 2016

Sour cabbage – Professor of Probiotics

Sour cabbage – Professor of Probiotics


Sour cabbage (Germans call it Sauerkraut) is finely cut cabbage that has been fermented by various lactic acid bacteria. It has a long shelf life and a distinct sour taste, both of which result from the lactic acid that forms when the bacteria ferment the cabbage.

History of Sauerkraut

Sauerkraut originated approximately 2,000 years ago in China. It was known as suan cai, a particular
type of “pickled vegetable with sour taste”, made by natural fermentation of Napa cabbage or Chinese green. The earliest known history of suan cai is the laborers who built the Wall of China got their nourishment from rice and various types of fermented and pickled vegetables including suan cai.
It wasn't until 1,000 years later that Genghis Khan plundered China and brought back this recipe to Europe. The Germans gave it the name "sauerkraut", learned to make this from their native European cabbage.
It soon became a staple for seafaring men. It kept well without refrigeration and the vitamin content found in sauerkraut helped keep the ship's crews scurvy free. The famous ship captain, James Cook, once ordered 25,000 pounds of sauerkraut to outfit two ships.
In World War I and II, the slang word “kraut” was used to refer to sailors and ultimately all German soldiers because of a long history of German ships being outfitted with sauerkraut as part of daily food rations to prevent the onset of scurvy. 

The Science behind Sauerkraut Lacto-fermentation

Lacto-fermentation is an anaerobic oxidation of carbs present in cabbage, brought about by the Lactobacilli bacteria (lactic acid-producing bacteria LABs). These Lactobacilli reduce the pH, making the environment acidic and unsuitable for the growth of unwanted bacteria. The goal of making sauerkraut is to provide the best environment for Lactobacilli to grow.

Stages of Sauerkraut fermentation

Sauerkraut must go through three specific stages of fermentation.

Stage One

Leuconostoc mesenteroides initiates sauerkraut fermentation. Since Leuconostoc mesenteroides produce carbon dioxide, which effectively replaces the oxygen in the jar, making the environment oxygen-free. When lactic acids reach between .25 and .3%, Leuconostoc mesenteroides bacteria slow down and die off, but enzymes continue to function. This stage lasts between one and three days, depending on temperature.  

Stage Two

Lactobacillus plantarum and Lactobacillus cucumeris continue the ferment until lactic acid level of 1.5-2% is --attained. High salt and low temp inhibit these bacteria, so I hope you didn’t over-salt your cabbage. This stage continues for 10-30 days, depending on temperature.

Stage Three

Lactobacillus brevis (may be Lactobacillus pentoaceticus also) finish off the ferment. When lactic acid reaches 2-2.5%, they reach their max growth and the ferment is over. This final stage lasts under a week. When no more bubbles appear in the jar, your sauerkraut is ready.

Factors affecting Lacto-fermentation

Although the process is simple, and will complete well if the right amount of salt added, there are
some factors that influence how sauerkraut will turn out. These are follows:

Brine level

Bacteria that may spoil sauerkraut will have the upper hand if you have an insufficient level of brine. Too low level of brine allows the undesirable aerobic bacteria and yeasts to grow on the surface. This can cause bad-flavors and discoloration of kraut.

Oxygen  

Lactobacillus plantarum, the primary bacteria responsible for Stage Two, works best without oxygen. Presence of oxygen will promote mold formation, allows pink yeasts to grow and could result in soft ‘kraut.

Temperature

The ideal temperature to make a perfect sauerkraut is 18-24 degrees celcius. It’s important toflowerpot. Water will remain cold in the clay pot and thus maintain the right temperature in the jar. Temperature also affects enzymes, which are destroyed once the temperature has risen to 45 degrees.
maintain the right temperature. In hot countries like India, it is very difficult to maintain this temperature. We have developed a desi technique for this issue. You can keep your jar in a water filled clay

Salt

Use only iodine-free rock salt at a ratio of about 1 to 3% and mix thoroughly. Much more than this and the Lactobacilli can’t thrive, less than this may promote yeast and mold formation.

pH

Since sauerkraut has a pH of 4.6 or lower, it is acidic. The acidic environment will not permit the growth of bacterial spores and thus is resistant to spoilage.
Lactobacilli thrive in an acid environment, but so can molds and yeasts. But always remember that you should keep the oxygen out in order to prevent mold and yeast formation.  Yeast and mold both need an oxygen source to thrive.  

How To Make Homemade Sauerkraut in a Mason Jar

What You Need?

2-3 medium heads of green cabbage (about 3 kilos), Rock salt, 1 tbsp caraway seeds (optional), Mixing bowl, Mason jar, weighing machine, Cutting board and Chef's knife
Instructions

Slice the cabbage

Peal the outer leaves of the cabbage and remove two to two leaves from the next layer, which would be needed later on. Cut the cabbage in the half and remove the core, the core is rich is nutrient so chop it well over. Then cut each half into two pieces and slice each half into thin strips. Now slice the remaining cabbage as well.

Weigh and calculate the salt

After chopping, we weigh the shredded cabbage and calculate how much rock salt is needed. Ideal quantity of the salt should be 1 to 3%. Today we have 3000 gm of cabbage; we need to calculate 1.5% of 3000 gm which is 45 gm. Then we use the scale again to weigh 45 gm of salt.

Mix the cabbage and salt

Transfer the cabbage to a large mixing bowl and sprinkle the salt over top. Begin adding the salt into
Fido Jar makes good Sour-Cabbage
the cabbage by mashing and bursing the cabbage with your hands or potato masher. Keep adding layer of salt and cabbage as you burse the shredded cabbage.  It will release the water which will come to the top. Add extra water if needed.
Keep pressing down firmly to remove all air. Wrap the fresh cabbage leaves on top to protect the shredded cabbage.

Weigh the cabbage down

Now place a plastic bag inside and fill it with RO water to add weight over the cabbage. Leave only a small (2 to 3 cm) gap between the bag and the lid. Then tie the bag in the container.

Ferment the cabbage  

Your sauerkraut will be ready in 4-6 weeks depending on the room temperature, when ready sauerkraut should be refrigerated.  Check it daily and press it down if the cabbage is floating above the liquid.
Harsch Crock with stone weights
While it's fermenting, you may see bubbles coming through the cabbage, foam on the top, or white scum. These are all signs of a healthy, happy fermentation process.  If you see any mold, skim it off immediately and make sure your cabbage is fully submerged.
Refrigerate the sauerkraut  
This sauerkraut is a fermented product so it will keep for over one year if kept refrigerated.  

Harsch Fermenting Crock

 Harsch Fermenting Crock is the best pot to make sauerkraut. This crock has a special gutter in the rim, and a ceramic cover fits into the gutter which is filled with water thus creating the air lock. Gases (CO2)  from the fermentation can escape, but air can not enter the crock from outside. Thus creating oxygen free environment. The Harsch crock comes with a 2 piece stone that is used to weigh down and apply pressure on the cabbage.                 

Colon World – A Disney Land of tiny creatures

There is a huge population of bacteria, roughly ten times as the numbers of all of our human cells colonized in our digestive system. We cannot stay alive without these wonderful friendly bacteria, here battles are fought, helpful substances, vitamins are produced, and the immune system is strengthened. The following actions are taken place here:
1.    Vitamins  are manufactured  and minerals are absorbed into the blood
2.    Friendly bacteria kill the disease causing bacteria, such as Salmonella
3.    Friendly bacteria reduce the levels of some toxins, such as ammonia
4.    Short-chain fatty acids (the wonderful fats) are manufactured, most of which are absorbed into the blood, but some are used as food for the cells of the colon. The short-chain fatty acids recently gathered lot of attention among the scientists. It is difficult to get these fats in our food, so the body relies on the process going on in Colon World to make these fats for us. They are important in keeping the cells of the colon healthy and preventing ulcerative colitis, colon cancer, and diverticular disease. They may also help regulate cholesterol and insulin response.

Benefits of Sauerkraut


1.   Professor of Probiotics - Leuconostoc mesenteroides,  plantarum, Lactobacillus brevis, Lactobacillus pentoaceticus, Lactobacillus plantarum and some other species
2.    Processor of nutrients - Glucosinolates, sulfur, iodine  
3.    Producer of vitamins - vitamin C, B group vitamins
4.    Anti-bacterial, anti-viral, anti-inflammatory, reduces free radicals, boosts immunity, reduces cholesterol, improves blood flow, repairs damaged cells, low in calorie
5.    Promoter of digestionrich in fiber, promotes digestion, constipation. It contains the antiulcer factor vitamin U thus helps with gastric ulcers,
6.    Protector of health – Acts as detoxifier, benefits nervous system, helps endocrine system, boosts energy, relieves painfully engorged breasts during breast feeding
7.    Terminator of cancer - Dr. Budwig advised her cancer patients to drink a glass of Sauerkraut juice every morning. It also lowers risk of colon cancer 

Sunday, August 28, 2016

Alsi Maa Ki Arti (Goddess Linseed Prayer)

अलसी से वात, पित्त, कफ सभी विकारों का इलाज होता है। इस औषधि को नवरात्रि में माता स्कंदमाता को चढ़ाने से मौसमी बीमारियां नहीं होती। साथ ही स्कंदमाता की आराधना के फल स्वरूप मन को शांति मिलती है। मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता परम सुखदायी है। माँ अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती है।
अलसी के संबंध में शास्त्रों में कहा गया है.
अलसी नीलपुष्पी पावर्तती स्यादुमा क्षुमा।
अलसी मधुरा तिक्ता स्त्रिग्धापाके कदुर्गरु:।।
उष्णा दृष शुक वातन्धी कफ पित्त विनाशिनी।
अर्थात् वात, पित्त, कफ जैसी बीमारियों से पीडि़त व्यक्ति को स्कंदमाता की पूजा करनी चाहिए और माता को अलसी चढ़ाकर प्रसाद में रूप में ग्रहण करना चाहिए। प्रस्तुत है अलसी मां की आरती .....


अलसी वंदना
आरती अलसी मैया की
शशिधर रूप दुलारी की ।।
स्वास्थ्य की देवी कहलाती
भक्त की पीड़ा हर लेती
मोक्ष के द्वार खोल देती
शत्रु हो त्रस्त
रोग हो ध्वस्त
देह हो स्वस्थ
दयामयी अनुरागिनी की
शशिधर रूप दुलारी की ।।
त्वचा में लाये कोमलता
कनक जैसी हो सुन्दरता
छलकता यौवन का सोता
बदन में महक
केश में चमक
मुखाकृतिें दमक
मोहिनी नील कुमारी की
शशिधर रूप दुलारी की ।।
तुम्हीं हो करुणा का सागर
कृपा से भर दो तुम गागर
धन्य हो जाऊँ मैं पाकर
तू देती शक्ति
करूँ मैं भक्ति
दिला दे मुक्ति
उज्ज्वला मनोहारिणी की
शशिधर रूप दुलारी की ।।
ज्ञान और बुद्धि का वर दो
तेज और प्रतिभा से भर दो
ओम को दिव्य चक्षु दे दो
न जाऊं भटक
बिछाऊं पलक
दिखादे झलक
रुद्र प्रिय मतिवाहिनी की
शशिधर रूप दुलारी की ।।
क्रोध मद आलस को हरती
हृदय को खुशियों से भरती
चिरायु भक्तों को करती
मची है धूम
मन रहा घूम
भक्त रहे झूम
स्कंद मां पालनहारी की
शशिधर रूप दुलारी की ।।

Tuesday, July 19, 2016

असंभव को संभव बनाता - ओरीगानो तेल


    वाइल्ड ओरीगानो एक सदाबहार पौधा है। इसका बोटेनिकल नाम Origanum Vulgare है। इसकी पत्तियां जैतून के जैसी हरी और फूल छोटे और बैंगनी रंग के होते हैं। पूरे पौधे में एक विशेष तरह की तेज गंध होती है और इसका स्वाद तेज, गर्म और हल्का कड़वा होता है। सूखे पौधे, पत्तियों, बीज और तेल में भी यही खास गंध होती है, जो इसकी पहचान है। बाजार में मिलने वाली अजवायन स्वीट मार्जोरम या मेक्सीकन सेज होती है, जिनमें कोई औषधीय गुण नहीं होते। 
    वैसे तो ओरीगानो की 40 प्रजातियां होती है, लेकिन चमत्कारी औषधीय गुण सिर्फ मेडिटेरेनियन के पहाड़ों में उगने वाली वाइल्ड ओरीगानो (Origanum Vulgare) में ही होते हैं। तेल निकालने के लिए सही समय पर फूल और पत्तियों को तोड़ लिया जाता है, जब पौधे में तेल की मात्रा सबसे अधिक होती है। प्राचीनकाल में ग्रीस और इटली के लोग ओरीगानो को बहुत पसंद करते थे। पिज़्जा और अन्य व्यंजनों में ओरीगानो का भरपूर प्रयोग किया जाता था। ओरिगेनम (Origanum) शब्द भी दो ग्रीक शब्दों ओरोज (oros=mountain) और गेनोज (ganos=joy) से लिए गए हैं। इनका मतलब है पहाड़ों का आनंद (joy of the mountain) । ओरीगानो को आनंद का प्रतीक माना जाता है। पुराने जमाने में वहाँ नव विवाहित जोड़े को ओरीगानो का ताज पहनाने का रिवाज़ था। 

ओरीगानो तेल – पोषक तत्वों का मधुबन 

    कार्वेक्रोल – ओरीगानो के तेल का सबसे अहम तत्व कार्वेक्रोल नामक एक मोनोटर्पेनॉयड फीनोल है, जो इस पूरी
कायनात का सबसे तेज़ और असरदार मल्टी-स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक है। ईश्वर द्वारा दिए गए इस अनूठे फीनोल में केंडिडा ऐल्बीकेंस, स्टेफाइलोकोकस, ई-कोलाई, केंपाइलोबेक्टर, सोलमोनेला, क्लेबसिएला, ऐस्परगिलस मोल्ड, जिआर्डिया, सूडोमोनास और लिस्टेरिया समेत 90 से अधिक रोगाणुओं को नष्ट करने की क्षमता होती है। ओरीगानो तेल में कार्वेक्रोल और थायमोल की मात्रा 80% तक होती है। कार्वेक्रोल की भेदन क्षमता बड़ी तेज़ होती है और यह लेज़र किरणों की तरह टिशूज़ को चीरता हुआ गहराई तक पहुच कर असर दिखाता है। 
    थायमोल – यह एक प्राकृतिक कॉक्स-2 इन्हिबीटर है और एक तेज़ दर्द-निवारक है। यह फंगस और कीटाणुरोधी है। यह इम्युनिटी को बढ़ाता है, टॉक्सिंस से शरीर की रक्षा करता है, कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाता है और उपचार प्रक्रिया को प्रोत्साहित करता है। 
    टरपीन्स – शक्तिशाली एंटीबेक्टीरियल है। 
    रोज़मरीनिक एसिड – यह एक एंटीऑक्सीडेंट है और अस्थमा, कैंसर और ऐथेरोस्क्लिरोसिस के उपचार में मदद करता है। यह प्राकृतिक एंटीहिस्टेमीन है और ऐलर्जी से होने वाले तरल के जमाव और सूजन को कम करता है। 
    नरायंगिन – कैंसररोधी है और तेल की एंटीऑक्सिडेंट क्षमता को बढ़ाता है। 
   बीटा-करायफीलिन (E-BCP) – यह प्रदाहरोधी है और ऑस्टियोपोरोसिस, ऐथेरोस्क्लिरोसिस और मेटाबोलिक सिंड्रोम के उपचार में मदद करता है। 
    ओरीगानो के तेल में विटामिन ए, सी और ई, कैल्सियम, मेग्नीसियम, जिंक, आयरन, पोटेसियम, मेंगनीज़, कॉपर, बोरोन, और नायसिन भी पर्याप्त मात्रा में होते हैं। 

कैंसर रोगी को राहत 

    ओरीगानो तेल कैंसर के हॉलिस्टिक उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। भले ओरीगानो तेल अकेले कैंसर को ठीक नहीं कर सके लेकिन यह हर कैंसर उपचार को प्रोत्साहित करता है और कैंसरजनित दर्द, प्रदाह और संक्रमण में राहत दिलाता है। 

जोड़ की तकलीफ़ो में चमत्कार

    आर्थराइटिस एक कष्टप्रद चिरकारी रोग है, जिसके प्रमुख लक्षण जोड़ों में दर्द, सूजन, प्रदाह और जकड़न होते हैं। ओरीगानो तेल जोड़ों में गहराई तक जाकर दर्द, प्रदाह और जकड़न को दूर करता है। यह प्रदाह से सुलगते जोड़ों और मांस-पेशियों को त्वरित गति से शांति और सुकून पहुँचाता है और खोई हुई लचक प्रदान करता है। 
कार्वेक्रोल शरीर की प्राकृतिक प्रदारोधी प्रणाली हीट शॉक प्रोटीन्स (heat shock proteins) को सक्रिय करता है, सेल्फ-स्ट्रेस प्रोटीन्स को निष्क्रिय करने वाले टी-सेल्स की क्षमता को बढ़ाता है और प्रदाह को शांत करता है। 

दर्द निवारक 

    ओरीगाने तेल निसंदेह बहुत शक्तिशाली दर्द निवारक है। यह मोर्फीन के इंजेक्शन की तरह तेजी से दर्द दूर करता है, लेकिन इसकी आदत नहीं पड़ती और कोई साइड-इफेक्ट भी नहीं हैं। यह अन्य दर्द निवारक दवाओं से भी बढ़कर दर्द और प्रदाह को ठीक कर देता है। 

चिकित्सकीय प्रयोग 

त्वचा के रोग -
वायरल इंफेक्शन - हरपीज़ जोस्टर, कोल्ड सोर्स (हरपीज़ सिंप्लेक्स)
बेक्टीरियल इंफेक्शन – फोड़े-फुंसी
फंगल इंफेक्शन – रिंगवर्म, सेबोरिया, जेनीटल वार्ट, इंपेटायगो, डर्मेटायटिस, सोरायसिस, एग्ज़ीमा, रोज़ेसिया, एक्ने,
एथलीट्स फूट, जोक इच, चोट, घाव, ऐलर्जिक रेश, स्केबीज़, बैड सोर
जलने या चोट के घाव, खंरोच (एंटीबायोटिक, एंटीसेप्टिक और दर्द निवारक) 
ओरीगानो तेल सबसे शक्तिशाली एंटीबायोटिक है। चोट लगने या जलने के घाव को साफ करने के लिए और दर्द दूर करने के लिए घाव पर तुरंत तेल लगाएं। इससे हल्के-फुल्के जलने या चोट के घावों में फफोले नहीं बनेंगे और घाव के निशान भी नहीं रहेंगे। इंफेक्शन भी नहीं होगा और घाव जल्दी भर जाएंगे। 
सर्पदंश या बिच्छू डंक (एंटीवेनम)
सांप, बिच्छू या कोई भी ज़हरीले कीड़े मकोड़े के काटने पर तुरंत ओरीगानो तेल लगाना चाहिए। यह ज़हर को निष्क्रिय करता है और शीघ्रता से घाव को भेदता हुआ अंदर जाता है। इसकी प्रदाहरोधी और चेतनाशून्य शक्ति टॉक्सिंस और रोगाणुओं को निष्क्रिय करती है ओर दर्द और वेदना में तुरंत राहत दिलाती है। इसकी 2-4 बूंदे पानी में मिला कर लेने से ज़्यादा फायदा मिलता है। 
श्वास रोग
कार्वेक्रोल H5N1 बर्ड फ्लू (इंफ्लुएंजा-ए वायरस की एक प्रजाति), खांसी, सायनुसायटिस, ब्रोंकायटिस, गले की ख़ारिश, सर्दी, ज़ुकाम आदि में राहत देता है। यह बलग़म को बाहर निकालता है। इसकी भाप को लेने से फेफड़ों को सुकून मिलता है और खासी में फ़ायदा होता है। 
पेरासाइट इंफेक्शन – (जैसे सिर की जुएं, स्केबीज़, क्रिप्टोस्पोरीडियम, जिआर्डिया, फ्लूक्स) 
पेट के कीड़े और फ्लूक्स को मारने के लिए ओरीगानो तेल की 1-3 बूंद (जीभ के नीचे या पानी/ज्यूस के साथ) दिन में 3 बार ले सकते हैं। पानी में संक्रमण की संभावना हो तो 1 बूंद तेल डालने से परजीवी जैसे क्रिप्टोस्पोरीडियम और जिआर्डिया मर जाएंगे। सिर की जुएं मारने के लिए साबुन या शैम्पू में तेल की कुछ बूंदें मिला लें। 
वायरल इंफेक्शन – जैसे सर्दी, ज़ुकाम, हरपीज़ जोस्टर, कोल्ड सोर्स (हरपीज़ सिंप्लेक्स), वार्ट, इबोला, हीपेटायटिस आदि। सर्दी, ज़ुकाम के पहले लक्षण दिखते ही ओरीगानो तेल लेने से तुरंत फायदा होता है। 
रोग प्रतिरोधक क्षमता - 
शरीर की इम्यून शक्ति बढ़ाने में ओरीगानो तेल कई बार एकीनेसिया और गोल्डनसील से भी अधिक शक्तिशाली
साबित हुआ है। बस 1-3 बूंद (जीभ के नीचे या पानी/ज्यूस के साथ) दिन में 3 बार ले लीजिए। 
एंटीऑक्सीडेंट – 
रोज लिया जाए तो ओरीगानो तेल का सेवन मुक्त-मूलक क्षति से बचाता है, जीर्णता के असर पर ब्रेक लगाता है। 
ऐलर्जी –
ओरीगानो तेल के सेवन और इसकी भाप लेने से ऐलर्जी में बहुत फ़ायदा होता है। 
मांस-पेशी और जोड़ों के दर्द, प्रदाह और चोट – जैसे खंरोच लगने, त्वचा के कटने, मांस-पेशी की चोट, मोच, बर्साइटिस, टेंडनाइटिस, कार्पल टनल सिंड्रोम, रूमेटिज़्म, शियेटिका आदि। 
पाचन रोग – अपच, भूख न लगना, दस्त लगना, हिचकी, कोलायटिस आदि। 
ओरीगानो तेल पित्त का स्त्राव बढ़ाता है, वायु विकार को शात करता है, जीवाणुरोधी है और प्रदाहरोधी है। 
शक्तिशाली दर्द निवारक – जैसे सिरदर्द, माइग्रेन, नर्वस टेंशन 
फंगस इंफेक्शन – जैसे केंडिडायसिस, थ्रश, वेजाइनायटिस, हाथ और पैरों की अंगुलियों के फंगल इंफेक्शन, ऐथलीट्स फूट, डेंड्रफ, रिंगवर्म, कान का इंफेक्शन 
सिस्टेमिक फंगस संक्रमण – रक्षा-प्रणाली बहुत कमजोर हो जाने के कारण प्रायः कैंसर या एड्स के गंभीर रोगियों में देखने को मिलता है। यह अमूमन जानलेवा हो सकता है और ओरीगानो तेल फंगस संक्रमण को सुरक्षित तरीके से ठीक करने की क्षमता रखता है। 
रोगी को 1-3 बूंद (जीभ के नीचे या पानी/ज्यूस के साथ) दिन में 3 बार दीजिए। रोगी को चीनी और मैदा मत दीजिए, क्योंकि ये फंगस का ख़ास भोजन है। रोज 6-8 ग्लास पानी पीना जरूरी है, ताकि मरे हुए फंगस से निकलनेवाले टॉक्सिन्स का उत्सर्जन सहज हो सके। उपचार आवश्यकतानुसार लंबे समय तक देना पड़ सकता है। मात्रा भी बढ़ानी पड़ेगी। 
नाखून में फंगस संक्रमण – रोज नाखून धोकर साफ करें और तेल लगाएं। लंबे समय तक 1-3 बूंद तेल (जीभ के नीचे या पानी/ज्यूस के साथ) दिन में 3 बार देना पड़ेगा। 
ऐथलीट्स फूट – रोज तेल लगाएं। 
डेंड्रफ (सेबोरिया) – तेल की कुछ बूंदें शैम्पू में मिलाएं और डायल्यूटेड तेल सिर में मलें। 
फूड पॉयज़निंग - 3 बूंद ओरीगानो तेल (जीभ के नीचे या पानी/ज्यूस के साथ) हर घंटे 10 घंटे तक या जब तक रोगी को आराम नहीं मिले तब तक देते रहिए। 
कैंसर - 
ओरीगानो तेल में एंटीकैंसर और एंटीम्यूटेजेनिक गुणों से भरपूर रोजमेरिक एसिड और नरायंगिन तत्व होते हैं। कार्वेक्रोल मल्टी-स्पेक्ट्रम एंटीबायोटिक और एंटीइंफ्लेमेटरी है। थायमोल एक तेज़ दर्द-निवारक है। ये सब कैंसर पर मिलकर प्रहार करते हैं। त्वचा के कैंसर पर तेल लगाकर बैंडएड लगाकर रखें। 
उच्च रक्तचाप - ओरीगानो तेल में विद्यमान 7 तत्व रक्तचाप कम करते हैं। 
मसूड़े के रोग, मुंह के छाले और पायरिया – अंगुली से तेल लगाते रहें। 
ओरल हाइजीन और मुंह की दुर्गंध - मुंह की दुर्गंध के लिए टूथब्रश पर टूथपेस्ट के साथ तेल की 1 बूंद डालकर रोज ब्रश करें। सारी दुर्गंध गायब हो जाएगी। दांत और मुंह ताज़ा तथा निर्मल हो जाएगा। 
दांत का दर्द - ओरीगानो तेल दर्द देने वाले कीटाणुओं का सफाया कर देता है। 
यू.टी.आई. – कार्वेक्रोल यूरीनरी ट्रेक्ट इंफेक्शन के कारक जीवाणु ई-कोलाई, प्रोटियस और सूडोमोनास का खातमा कर देता है, इसलिए ओरीगानो तेल यू.टी.आई. बहुत कारगर माना जाता है। 

दो बूंद आरोग्य के लिए – थोड़ा ही कॉफी है 

    ओरीगानो तेल का खालिस तेल बहुत तेज़ और पॉवरफुल होता है। इसलिए इसे प्रायः पतला करके प्रयोग करना चाहिए। पतला करने के लिए जैतून या नारियल के तेल को करियर तेल के रूप में प्रयोग करें। सामान्यतः ओरीगानो तेल और करियर तेल का अनुपात 1:3 रखा जाता है, लेकिन आप 1:3 से 1:15 के बीच कोई भी अनुपात रख सकते हैं। योनि, गुदा और नाजुक जगह पर तेल नहीं लगाएं, तेल जलन करता है। यदि बहुत ही जरूरी हो तो तेल को बहुत पतला करके ही लगाएं। डायल्यूटेड तेल (ओरीगानो तेल 1 हिस्सा और करियर तेल 3 हिस्सा) की सामान्य मात्रा 2-3 बूंद (बच्चों में 1 बूंद) दिन में 2-3 बार है। जीभ के नीचे 2-3 बूंद डालें और 1-2 मिनट बाद सलाइवा में अच्छी तरह मिला कर निगल लें। या इसे आधे ग्लास पानी, ज्यूस अथवा 1 टीस्पून शहद में मिलाकर लें। रोज 6-8 ग्लास पानी पीना जरूरी है, ताकि मरे हुए जीवाणुओं से निकलनेवाले टॉक्सिन्स का उत्सर्जन सहज हो सके। उपचार आवश्यकतानुसार लंबे समय तक देना पड़ सकता है। मात्रा भी बढ़ानी पड़ेगी।

सुरक्षा सूत्र 

    क्या ओरीगानो तेल हमारे लिए पूर्णतः सुरक्षित है? जी हां पतला करके प्रयोग करें तो यह तेल हमारे लिए बिलकुल सुरक्षित है। फिर भी नाजुक जगह पर प्रयोग करने से पहले स्पॉट टेस्ट कर लेना चाहिए। इसके लिए अपनी बांह पर थोड़ा सा पतला किया हुआ तेल लगाएं और देखें कि कोई जलन आदि नहीं हो रही है। 
हमेशा वाइल्ड ओरीगानो तेल (Origanum Vulgare) ही खरीदें। कुछ निर्माता आपको मिलावटी या साधारण अजवान, स्पेनिश ओरीगानो, स्वीट मार्जोरम का तेल भी टिका सकते हैं। याद रखें सिर्फ ओरीगानो वलगेरी का तेल ही काम करता है। सामान्यतः इस तेल को 6 सप्ताह से ज्यादा नहीं लेना चाहिए। इससे आपके शरीर की तेल सोखने की क्षमता तम हो सकती है। यदि आप इसे अधिक समय तक लेना जरूरी समझते हैं, तो 2 सप्ताह का विराम लेकर पुनः शुरू करें। 
     कुछ लोगों इस तेल से अपच या पेट में छोटी मोटी तकलीफ़ हो सकती है। जिन्हें मिंट प्रजाति के पौधों से ऐलर्जी हो, उन्हें भी इस तेल से ऐलर्जी हो सकती है। अतः वह इसे नहीं लें। आमतौर पर शिशुओं और बच्चों में इस तेल प्रयोग नहीं करना चाहिए। गर्भवती स्त्रियों और दुग्धदायिनी माताओं में भी इस तेल का प्रयोग नहीं करना चाहिए। 

-------- श्रीमती मृदुला की उपचार यात्रा - कराहने से कहकहे तक -------- 



    श्रीमती मृदुला ठाकुर पत्नी कृष्णपाल सिंह सागर की रहने वाली हैं। इन्हें डेढ़ महीने से कमर और दाएं पैर में बहुत दर्द था। 1 जुलाई से तो दर्द बिलकुल असहनीय हो गया। मृदुला दर्द से कराह रही थी, और चल भी नहीं पा रही थी। सागर के डॉक्टर्स ने इन्हें देखा और दवाइयां दी पर कोई फायदा नहीं हुआ। डॉक्टर्स ने शियेटिका सिंड्रोम बताया। 7 जुलाई को ये दयोदया एक्सप्रेस से कोटा आई। इन्हें व्हील चेयर में बिठाकर बाहर कार तक लाया गया। कोटा के अच्छे चिकित्सक को दिखाया जिन्होंने एम.आर.आई. और एक्स-रे करवाए तथा दवाइयां और इंजेक्शन लिखे। दो दिन तक इन्हें कोई फायदा नहीं हुआ। फिर इन्हें ऑरिगानो तेल (3 बूँद दिन में तीन बार) पिलाया गया और इसी तेल की कमर पर मालिश भी की गई। इस ऑरिगानो तेल के प्रभाव से दो दिन में ही इन्हें सारे दर्द और वेदना से छुटकारा मिल गया और श्रीमती मृदुला 13 जुलाई को मुस्कुराती हुई सागर के लिए रवाना हो गई। यह सारा चमत्कार ऑरिगानो तेल का था। दवाइयां शायद काम नहीं कर सकी।

Wednesday, June 15, 2016

ट्रांस फैट ड्यूएट


ट्रांस फैट ड्यूएट 


           एक दिन मैं ट्रांस फैट पर लेख लिख रहा था। ट्रांस फैट सस्ते तेलों को हाइड्रोजनेट करके फैक्ट्री में बनाया जाता है। सबसे पहले 1911 में प्रोक्टर एंड गैंबल ने इसे क्रिस्को के नाम से बनाया। इंडिया में यह डालडा, रथ या वनस्पति के नाम से आया। उस रात चाय पीते समय मैंने अमित जी की पुरानी ब्लॉक बस्टर फिल्म लावारिस का वो मशहूर गीत (मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है) बजाया। मैं गीत गुगुनाता रहा और ट्रांस फैट पर यह ड्यूएट निकलकर सामने आया। इसमें रेखा जी ट्रांस फैट के रूप में है। इस गीत में अमित जी रेखा (ट्रांस फैट) को कहते हैं कि मेरे इंडिया में तुम जैसी कातिल और जानलेवा फैट का क्या काम है। तुमने मेरे देशवासियों को बहुत बीमार किया है, लाखों लोगों की जान ली है। लेकिन घमंडी और बेशर्म रेखा (ट्रांस फैट) खिसकने के लिए तैयार ही नहीं होता। उसका संपर्क अंबानी और टाटा जैसे बड़े-बड़े उद्योगपतियों से जो है। वह तो अमित जी से यह तक कह देती है कि आपने तो कभी मुझसे प्यार किया है, मेरे साथ फिल्में की हैं, मेरा प्रचार किया है, नन्हें बच्चों को ट्रांस फैट मिली डेयरी मिल्क खिलाई है। अमित जी निरुत्तर जाते हैं और गुस्सें में अपना धैर्य खो बैठते हैं, कहते हैं कि तुमने घी और बटर को व्यर्थ ही बदनाम किया है और उनकी टांग तोड़ने तक की बात कह जाते हैं। 

मेरे इंडिया में क्रिस्को क्या काम है
मेरे इंडिया में ट्रांस फैट क्या काम है
तू है बड़ी कातिल तू ही तो बदनाम है 

ट्रांसफैट मुझको पुकारे दुनिया सारी
वनस्पति मुझको बुलाए दुनिया सारी
तबाही मचाऊं लेती हूँ सबकी जान मैं

अंबानी है मेरा टाटा भी मेरी जान है
रिलायंस मेरा टाटा भी मेरी जान है
मल्टीनेशनल को बनाऊँ धनवान मैं

जोड़ जाम कर दूँ शुगर को भी बढ़ाऊँ मैं
घुटने जाम कर दूँ शुगर को भी बढ़ाऊँ मैं
दिल की धमनियों में मचाऊँ कोहराम मैं

बेकरी में रहती हलवाई भी गुलाम है
समोसा इमरती को तलना मेरा काम है
पिज्ज़ा और बर्गर बनाना मेरा काम है

तुमने भी किया है मेरा एड कुछ ध्यान है
डेयरी मिल्क में भी मिलाया यही माल है
बच्चों को भी तुमने खिलाया ट्रांस फैट है

बटर और घी को क्यों किया बदनाम है
गले को दबा दूँ खींचूंगा तेरी टांग मैं
मुंडी को मरोड़ूँ खींचूंगा तेरी टांग मैं

मेरे इंडिया में क्रिस्को क्या काम है
मेरे इंडिया में ट्रांस फैट क्या काम है
तू है बड़ी कातिल तू ही तो बदनाम है

धुन - मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है




Dr. O.P.Verma
M.B.B.S., M.R.S.H.(London)
7-B-43, Mahaveer Nagar III, Kota Raj. 
+919460816360